ER Model क्या है? Components of ER Diagram in DBMS in Hindi

नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सभी लोग मैं उम्मीद करता हूँ कि आप सभी लोग अच्छे ही होंगे तो दोस्तों यदि आप भी ER Model (Entity Relationship Model) के बारे में जानना चाहते हैं इस लेख को पढ़कर आप जान सकतें हैं कि ER Model क्या है।

ER Model क्या है?

ER Model का विकास Peter Chen द्वारा किया गया था और सन् 1976 में इसे एक पेपर मौजूद Ideas के Variants के साथ  प्रकाशित किया गया था। ER Model का उपयोग प्रायः यह मॉडल Database के Conceptual View को भी परिभाषित करता है।

यह भी पढ़ें: Graphic Card क्या है? Graphic Card कैसे काम करता है?

ER Model का फुल फॉर्म Entity Relationship Model होता है। यह एक उच्च-स्तरीय डेटा मॉडल होता है। इस मॉडल का उपयोग किसी specified system  के डेटा element और relation को परिभाषित करने के लिए किया जाता है। यह मॉडल Conceptual Scema को प्रस्तुत करता है जिससे डेटा को देखना बहुत ही सरल और आसान हो जाता है। ER मॉडल में database structure को एक entity-relationship diagram के में दिखाया जाता है।

उदाहरण के लिए – मान लीजिए हम एक स्कूल डेटाबेस डिज़ाइन करते हैं। इस डेटाबेस में छात्र का नाम, आईडी और आयु आदि विशेषताओं के छात्र एक entity होगा ठीक उसी प्रकार से पता, गली का नाम और पिन कोड आदि विशेषताओं के साथ एक और entity हो सकता है, और उनके बीच एक सम्बन्ध होगा।

Components of ER Diagram in DBMS in Hindi

  • Entity
    • Weak Entity
  • Attribute
    • Key Attribute
    • Composite Attribute
    • Multivalued Attribute
    • Derived Attribute
  • Relationship
    • One to one relationship,
    • One to many relationship,
    • Many to one relationship,
    • Many to many relationship,

1. Entity

एक entity कोई भी Person (व्यक्ति) , Place और Real World object हो सकता है। यदि हम entity को database के माध्यम से देखते हैं, तो entity एक table हैं। entity attribute को contain करता हैं, तथा हम entity में Information को store करते हैं।

यह भी पढ़ें: Mouse क्या है और mouse कितने प्रकार के होतें हैं पूरी जानकारी हिंदी में

(i) Weak Entity

Entity जो एक अन्य entity पर निर्भर करती है जिसे Weak Entity कहा जाता है। Weak Entity का अपना कोई प्रमुख गुण नहीं है।

2. Attribute

किसी entity के गुणों का वर्णन करने के लिए attributes का उपयोग किया जाता है।
उदाहरण के लिए– id, age, contact number, name आदि एक छात्र की विशेषता हो सकते हैं।

(i) Key attributes

किसी entity की मुख्य विशेषताओं का प्रतिनिधित्व करने के लिए key attributes का उपयोग किया जाता है।

(ii) Composite Attribute

वह attribute जो कई अन्य विशेषताओं से बना होता है, उसे एक composite attribute के रूप में जानी जाती है।

यह भी पढ़ें: CPU क्या होता है (What is CPU) और यह कैसे कार्य करता है

(iii) Multivalued Attribute

एक attribute में एक से अधिक values हो सकती हैं। इन विशेषताओं को multivalued attribute के रूप में जाना जाता है।

(iv)Derived Attribute

वह attribute जिसे अन्य विशेषता से प्राप्त किया जा सकता है, एक derived attribute के रूप में जाना जाता है।

3. Relationship

Entities के बीच संबंध का वर्णन (describe) करने के लिए एक relationship का उपयोग किया जाता है।

(i) One-to-One Relationship

जब एक entity का केवल एक instance ही relationship के साथ जुड़ा होता है, तो इसे one to one relationship के रूप में जाना जाता है।

(ii) One-to-many relationship

जब बाएँ (left) ओर entity का केवल एक instance, और relationship के right में entity का एक से अधिक instance हो तब यह one to many relationship के रूप में जाना जाता है।

(iii) Many-to-one relationship

जब बाएँ (left) ओर की entity का एक से अधिक instance, और relationship के दाहिनी (right) ओर की entity का केवल एक instance होता है, तो इसे many to one relationship के रूप में जाना जाता है।

यह भी पढ़ें: Computer क्या है, यह कितने प्रकार का होता है पूरी जानकारी हिंदी में

(iv) Many-to-Many relationship

जब बाएँ (left) ओर की entity का एक से अधिक instance, और relationship के साथ दाहिनी (right) सहयोगियों पर एक entity का एक से अधिक instance हो तब इसे many to many relationship के रूप में जाना जाता है।

Final Words

दोस्तों आप सभी लोगों को हमारा यह लेख ER Model क्या है? कैसा लगा आप हमें कमेंट बॉक्स में comments करके जरूर बताएं साथ ही इस लेख को अपने साथियों के साथ share करना न भूलें।

Leave a Comment

x