What is IPO in Hindi | IPO Full Form in Hindi | How IPO Works in Hindi

आप सभी को Gyaninfo.com वेबसाइट में स्वगात है। यहाँ इस लेख में आप लोगों को पता चलेगा कि आईपीओ क्या है? (What is IPO in Hindi), IPO Full Form in Hindi, How IPO Works in Hindi इसके साथ ही आप लोगों को आईपीओ (IPO) से जुडी सभी जरूरी जानकारियों के बारे में भी बताऊंगा। इसलिए आप इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

आईपीओ का फुल फॉर्म (IPO Full Form in Hindi)

यदि हम आईपीओ के फुल फॉर्म की बात करें तो, IPO का Full Form “Initial Public Offering” होता है। आईपीओ (IPO) को हिंदी भाषा में “सार्वजनिक प्रस्ताव या पब्लिक इश्यू” कहा जाता है। इसके लिए कंपनी शेयर बाजार में अपने को लिस्टेड कराकर अपने शेयर निवेशको को बेचने का प्रस्ताव लाती है।

आईपीओ मीनिंग इन हिन्दी (IPO Meaning in Hindi)

IPO को इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (Initial Public Offering) कहते हैं। जिसे सार्वजनिक प्रस्ताव या पब्लिक इश्यू भी कहा जाता हैं। IPO की प्रक्रिया के माध्यम से एक निजी कंपनी या निगम अपने कुछ शेयर बेचकर एक सार्वजनिक कंपनी बन जाती है। किसी कंपनी के आईपीओ बाजार में आने से निवेशकों के पास अपने शेयर खरीदकर उस कंपनी के कारोबार में भागीदार बनने का सुनहरा मौका होता है।

आईपीओ क्या है? (What is IPO in Hindi)

IPO को इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (Initial Public Offering) कहा जाता है। दरअसल, जब कोई कंपनी पहली बार अपने शेयर जनता को पेश करती है तो उसे आईपीओ (IPO) कहते हैं। इस प्रक्रिया में कंपनियां अपने शेयरों को आम जनता के सामने पेश करती हैं और यह प्राथमिक बाजार के तहत होता है।

यदि आप अधिक सरल तरीके से जानना चाहते हैं, तो यह कहा जाएगा कि आईपीओ (IPO) के माध्यम से, कंपनी फंड एकत्र करती है और उस फंड को कंपनी की प्रगति में खर्च करती है। बदले में आईपीओ खरीदने वालों को कंपनी में हिस्सेदारी मिलती है। मतलब जब आप किसी कंपनी के शेयर खरीदते हैं तो आप उस कंपनी के खरीदे गए हिस्से के मालिक होते हैं। एक कंपनी एक से अधिक बार आईपीओ (IPO) ला सकती है।

यह भी जानें: म्यूचुअल (mutual fund) फंड क्या है?

आईपीओ के प्रकार (Types of IPO)

सामान्यतः आईपीओ (IPO) को दो भागों में बांटा जा सकता है और इसे दो भागों में बांटने का कारण उसकी कीमतों का निर्धारण होता है –

  • फिक्स प्राईस इश्यू या फिक्स प्राईस आईपीओ (Fix Price Issue OR Fix Price IPO)
  • बुक बिल्डिंग इश्यू या बुक बिल्डिंग आईपीओ (Book Building Issue OR Book Building IPO)

1. फिक्स प्राईस इश्यू या फिक्स प्राईस आईपीओ (Fix Price Issue OR Fix Price IPO)

आईपीओ (IPO) जारी करने वाली कंपनी आईपीओ जारी करने से पहले निवेश बैंक के साथ IPO मूल्य पर चर्चा करती है। निवेश बैंक के साथ बैठक में कंपनी आईपीओ (IPO) की कीमत तय करती है। उस निश्चित कीमत पर कोई भी निवेशक आईपीओ को सब्सक्राइब कर सकता है। आप आईपीओ को उसी कीमत पर खरीद सकते हैं, जो तय की गई है।

2. बुक बिल्डिंग इश्यू या बुक बिल्डिंग आईपीओ (Book Building Issue OR Book Building IPO)

इसमें कंपनी निवेश बैंक के साथ आईपीओ (IPO) का प्राइस बैंड तय करती है। यह आईपीओ का प्राइस बैंड तय होने के बाद ही जारी किया जाता है। इसके बाद निवेशक तय किए गए प्राइस बैंड से अपनी बोली सब्सक्राइब करते हैं। बुक बिल्डिंग आईपीओ (IPO) के प्राइस बैंड में दो तरह के होते हैं –

  1. अगर प्राइस बैंड में आईपीओ की कीमत कम होती है तो इसे फ्लोर प्राइस कहा जाता है।
  2. अगर IPO की कीमत ज्यादा होती है तो इसे CAP PRICE कहते हैं।

ध्यान देने वाली बात यह है कि बुक बिल्डिंग आईपीओ में कैप प्राईस (CAP PRICE) और फ्लोर प्राईस (FLOOR PRICE) में 20% का अंतर रखा जा सकता है।

आईपीओ के फायदे (Benefits of IPO in Hindi)

1. पूँजी एकत्र करने की सुविधा

एक ही समय में बड़ी संख्या में व्यक्तियों तक पहुंच कर बड़ी पूंजी जुटाने के लिए आईपीओ सबसे सुविधाजनक विकल्प है। आईपीओ (IPO) के माध्यम से जुटाई गई धनराशि न केवल प्रौद्योगिकी के आधुनिकीकरण, नई सुविधाओं और विनिर्माण इकाइयों को खोलने में बल्कि अधिग्रहण के उद्देश्यों के लिए भी एक कंपनी की सहायता करती है।

2. तरलता

एक आईपीओ (IPO) के साथ, सभी हितधारकों के लिए बहुत अधिक तरलता आती है। यह एक आईपीओ के लाभों में से एक है जिसका हितधारकों पर प्रत्यक्ष मौद्रिक प्रभाव पड़ता है।

3. बढ़ी हुई व्यवहार्यता और प्रकाशन

कंपनी के सार्वजनिक होने के लिए आईपीओ का यह एक अच्छा लाभ है। इस चरण में बहुत प्रचार की आवश्यकता है। चूंकि आईपीओ (IPO) की पहुंच बहुत बड़ी है, यानी पूरे देश में एक ही समय में, यह कंपनी के बारे में जन जागरूकता पैदा करने में योगदान देता है।

4. कर्मचारियों के लिए बेहतर दर

यह एक आईपीओ (IPO का एक बहुत ही कम लाभ है, फिर भी, यह कंपनियों के साथ-साथ उनके कर्मचारियों के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। अक्सर कंपनियां अपने कर्मचारियों को किसी न किसी तरह से इनाम देने के लिए आईपीओ का इस्तेमाल करती हैं।

कर्मचारियों को रियायती कीमतों पर शेयर दिए जाते हैं। वे कंपनी के विकास का समर्थन करने के लिए प्रेरित हो जाते हैं क्योंकि कंपनी का प्रदर्शन सीधे उनके मुनाफे से संबंधित होता है। इस तरह कर्मचारियों की दक्षता बढ़ जाती है।

आईपीओ के नुकसान (Disadvantages of IPO)

1. आईपीओ फाइलिंग के खर्च

एक आईपीओ दाखिल करना एक महंगा मामला है और एक प्रस्ताव दाखिल करने में कई लागतें शामिल हैं जैसे कानूनी शुल्क, मुद्रण लागत और लेखा शुल्क। इसके अलावा, आईपीओ फाइलिंग की प्रक्रिया के लिए हमेशा एक अंडरराइटर को काम पर रखा जाता है। कुछ कंपनियां मीडिया को संभालने के लिए जनसंपर्क फर्मों को भी नियुक्त करती हैं। यह कंपनियों के लिए आईपीओ का सबसे बड़ा वित्तीय नुकसान है।

2. समय की बर्बादी

सार्वजनिक होने की पूरी प्रक्रिया में बहुत समय बर्बाद होता है। आम तौर पर, आईपीओ लॉन्च करने में छह से नौ महीने या उससे अधिक समय लगता है। और जैसा कि हम सभी जानते हैं, समय पैसा है। यदि उस समय का सदुपयोग किया जाए तो व्यवसाय को और अधिक सफल बनाया जा सकता है। इस प्रकार, समग्र आईपीओ प्रक्रिया को लागू करने के लिए अपेक्षाकृत सरल होना चाहिए और व्यवसाय के लिए परेशानी कम से कम होनी चाहिए।

3. जोखिम शामिल

कंपनी के सार्वजनिक होने का एक प्रमुख कारण प्रमोटर और मूल शेयरधारकों को तरलता प्रदान करना है। मान लीजिए कि एक प्रमोटर अपने वित्तीय बोझ को कम करने के लिए अपनी हिस्सेदारी का एक हिस्सा बेचता है, इसे शेयरधारकों द्वारा अलग-अलग रोशनी में देखा जा सकता है। वे सोच सकते हैं कि प्रमोटर को अपने व्यवसाय के बारे में पर्याप्त विश्वास नहीं है।

अब, शेयरधारकों को अपने हिस्से को कभी भी बेचने की स्वतंत्रता है। यदि कई शेयरधारक एक ही समय में अपनी बड़ी मात्रा में हिस्सेदारी बेचते हैं, तो शेयरों की कीमतों में गिरावट आएगी, जिससे कंपनी के समग्र मूल्य में कमी आएगी।

आईपीओ में निवेश कैसे करे?  (How to Invest in IPO)

IPO में कोई भी निवेशक बड़ी आसानी से शेयर खरीद सकता है। इसके लिए कंपनी निवेशक को ऑफलाइन और ऑनलाइन के जरिए शेयर खरीदने का विकल्प देती है, हालांकि ज्यादातर कंपनियां आईपीओ के लिए ऑफलाइन में शेयर ऑफर करती हैं। इसका मतलब है कि आईपीओ में केवल एक ब्रोकर के जरिए शेयर खरीदे जा सकते हैं। IPO में शेयर खरीदने के लिए आपको ब्रोकर से IPO फॉर्म लेना होता है और उसे भरकर ब्रोकर को देना होता है।

ऐसी कंपनियां जो आईपीओ जारी करती हैं, यह निवेशकों के लिए 3-10 दिनों के लिए खुलती हैं। इसका मतलब है कि कोई भी निवेशक 3 से 10 दिनों के भीतर शेयर खरीद सकता है। निवेशकों के लिए शेयर खरीदने की अवधि कम या ज्यादा हो सकती है। निवेशक आईपीओ में ऑनलाइन या ब्रोकर के माध्यम से निर्दिष्ट दिनों के भीतर निवेश कर सकता है।

आईपीओ कैसे काम करता है? (How does IPO work)

दरअसल, जब कोई कंपनी पहली बार अपने शेयर जनता को पेश करती है तो उसे आईपीओ कहते हैं। इस प्रक्रिया में कंपनियां अपने शेयरों को आम जनता के सामने पेश करती हैं और यह प्राथमिक बाजार के तहत होता है। यदि आप अधिक सरल तरीके से जानना चाहते हैं, तो यह कहा जाएगा कि आईपीओ के माध्यम से, कंपनी फंड एकत्र करती है और उस फंड को कंपनी की प्रगति में खर्च करती है।

FAQ About IPO in Hindi

1. IPO Full Form in Hindi

Initial Public Offering

2. आईपीओ क्या है?

IPO को इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग (Initial Public Offering) कहा जाता है। दरअसल, जब कोई कंपनी पहली बार अपने शेयर जनता को पेश करती है तो उसे आईपीओ (IPO) कहते हैं।

Conclusion

आपको आईपीओ (IPO) की जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट्स बॉक्स में लिखकर जरूर बतायें। यदि फिर भी आपका कोई सवाल या कोई संदेह है, तो वह भी बतायें हम उसे हल करने की पूरी कोशिश करेंगे और वह जानकारी आप तक पहुंचायेंगे। इसी के साथ इस लेख को ज्यादा से ज्यादा उन लोगों के साथ share कीजिये। जो लोग आईपीओ क्या है? (What is IPO in Hindi) के बारे में नहीं जानतें हैं। धन्यवाद!

1 thought on “What is IPO in Hindi | IPO Full Form in Hindi | How IPO Works in Hindi”

  1. Thank you for providing such information about What is IPO And This information really help me.

    Reply

Leave a Comment

x